Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2022 · 1 min read

दर्द पर लिखे अशआर

आपकी याद तो नहीं लेकिन
कोई पिघला है दर्द आँखों से ।।

एक दर्द-ए-एहसास जिसे कह न पाऊं कहीं ।
गुज़रते वक़्त की मानिंद गुज़र न जाऊं कहीं ।।

ज़िंदगी तुझसे यहाँ कौन कटा होता है ।
दर्द हर सांस के हिस्से में बंटा होता है ।।

ज़ख़्म नासूर करके रखते हैं ।
दर्द की हम दवा नहीं करते ।।

इनका एहसास खूब होता है ।
दर्द इतने बुरे नहीं होते ।।

ज़ख़्म गहरा सा कोई दे जाओ ।
दर्द में अब मज़ा नहीं आता ।।

जब भी सोचेंगे उसको जीने की ।
ज़िंदगी दर्द का मज़ा देगी ।।

दर्द इसका समझ नहीं सकते ।
खो दिया हमने कितने अपनों को ।।

जैसा हैं हम अंदर से उसे वैसा ही दिखाना ।
मुश्किल है बहुत दर्द की तस्वीर बनाना ।।

दर्द शिद्दत को पार कर आया ।
इश्क़ रोया जो आज सीने में ।।

दर्द को राहतें नहीं मिलती ।
लफ़्ज़ एहसास जब सिमट जाए ।।

ज़िंदगी का कोई लम्हा न कभी तुझपे भारी गुज़रे ।
तेरे हर दर्द से कह दूंगी मुझसे होकर गुज़रे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 68 Views
You may also like:
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की याद
Meenakshi Nagar
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिम्मत और हौसलों की
Dr fauzia Naseem shad
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
Loading...