Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2022 · 2 min read

दर्द पराया

डा ० अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

छिपा लेते हैं गम अपना नमी आंखों में रह्ती है
वो इंसा और होते है जिन्हें चाहत किसी की होती है

नहीं कहते किसी से कुछ न करते दुख बयां अपना
लिए फिरते हैं दर्द को अपने में सहानुभूति दिल में रह्ती है

सभी को चाह्ते हैं दिल से जिगर से हैं
दया भी सभी पर इनकी इक सार बह्ती है

कोई मेह्बूब होता है कोई प्यारा भी होता है
सभी से इनका रिश्ता तो बेहद हसीन होता है

नहीं इनको मिलावट का कोई भी रंग भाया
किसी से दिल मिला हो न ऐसा दिन कोई आया

खुदा के बंदे तो बस खुदा से नेक चाह्ते है
उसी की धुन में रह कर ये भला दुनिया का करते हैं

छिपा लेते हैं गम अपना नमी आंखों में रह्ती है
वो इंसा और होते है जिन्हें चाहत किसी की होती है

नहीं कहते किसी से कुछ न करते दुख बयां अपना
लिए फिरते हैं दर्द को अपने में सहानुभूति दिल में रह्ती है

मिलेगे गर ये तुमसे तो अपना तुमको बना लेंगे
मगर अपनी पीडा को ये तुमसे भी छुपा लेंगे

किसी के काम के काजे नही रहते कभी पीछे
भला हो जाये किसी का गर तो कभी हटते नहीं पीछे

छिपा लेते हैं गम अपना नमी आंखों में रह्ती है
वो इंसा और होते है जिन्हें चाहत किसी की होती है

नहीं कहते किसी से कुछ न करते दुख बयां अपना
लिए फिरते हैं दर्द को अपने में सहानुभूति दिल में रह्ती है

290 Views
You may also like:
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
Dr MusafiR BaithA
मां शेरावाली
मां शेरावाली
Seema 'Tu hai na'
✍️उम्मीदों की गहरी तड़प
✍️उम्मीदों की गहरी तड़प
'अशांत' शेखर
💐अज्ञात के प्रति-72💐
💐अज्ञात के प्रति-72💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुन लो मंगल कामनायें
सुन लो मंगल कामनायें
Buddha Prakash
शब्दों के अर्थ
शब्दों के अर्थ
सूर्यकांत द्विवेदी
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
Ye Sidhiyo ka safar kb khatam hoga
Ye Sidhiyo ka safar kb khatam hoga
Sakshi Tripathi
"माँ की ख्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वाभिमान से इज़हार
स्वाभिमान से इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बादल  खुशबू फूल  हवा  में
बादल खुशबू फूल हवा में
shabina. Naaz
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
कवि दीपक बवेजा
#बोध_काव्य-
#बोध_काव्य-
*Author प्रणय प्रभात*
जंगल का रिवाज़
जंगल का रिवाज़
Shekhar Chandra Mitra
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
दिल का तुमसे
दिल का तुमसे
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे अब मैं क्या छुपाऊँ
तुमसे अब मैं क्या छुपाऊँ
gurudeenverma198
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“अखने त आहाँ मित्र बनलहूँ “
“अखने त आहाँ मित्र बनलहूँ “
DrLakshman Jha Parimal
याद आयो पहलड़ो जमानो
याद आयो पहलड़ो जमानो "
Dr Meenu Poonia
✍️गुमसुम सी रातें ✍️
✍️गुमसुम सी रातें ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लालच
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
धूप सुहानी
धूप सुहानी
Arvina
एहसास-ए-हक़ीक़त
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
गं गणपत्ये! जय कमले!
गं गणपत्ये! जय कमले!
श्री रमण 'श्रीपद्'
बारिश ए मोहब्बत।
बारिश ए मोहब्बत।
Taj Mohammad
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
संघर्ष की शुरुआत / लवकुश यादव
संघर्ष की शुरुआत / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...