Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 29, 2017 · 1 min read

दर्द निस्बत मुझे कुछ खास हो गयी है

जो भी ख़लिश थी दिल में एहसास हो गयी है
दर्द निस्बत मुझे कुछ खास हो गयी है

वजूद हर ख़ुशी का ग़म से है इस जहाँ में
फिर जिंदगी क्यूँ इतनी उदास हो गयी है

चराग़ जल रहा है यूँ मेरी मोहब्बत का
दिल है दीया, तमन्ना कपास हो गयी है

शिकवा नहीं है कोई अब उनसे बेरूखी का
यादों में मोहब्बत की अरदास हो गयी है

नदीश मोहब्बत में वो वक़्त आ गया है
तस्कीन प्यास की भी अब प्यास हो गयी है

लोकेश नदीश

137 Views
You may also like:
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
poem
पंकज ललितपुर
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️वो भूल गये है...!!✍️
"अशांत" शेखर
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
दया***
Prabhavari Jha
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
Loading...