Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2022 · 1 min read

दर्द को गर

दर्द को गर तुम्हें समझना था ।
अपनी आंखों में कुछ नमी रखते ॥

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

5 Likes · 56 Views
You may also like:
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
दरमियां लफ़्ज़ों का
Dr fauzia Naseem shad
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा
Anamika Singh
पिता
Santoshi devi
संत की महिमा
Buddha Prakash
प्यार
Anamika Singh
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का दर्द
Nitu Sah
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
अब कहाँ उसको मेरी आदत हैं
Dr fauzia Naseem shad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पिता
Aruna Dogra Sharma
पिता
Shankar J aanjna
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...