Sep 17, 2016 · 1 min read

दर्द की लत/मंदीप

हम को तो दर्द लेने की ऐसी लत लगी,
जितना तो लोग उदहार भी नही लेते।

100 Views
You may also like:
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
चिड़ियाँ
Anamika Singh
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H.
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
पिता
Rajiv Vishal
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...