Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#16 Trending Author
Apr 25, 2022 · 1 min read

** दर्द की दास्तान **

दिलमें बहुत दर्द उठा
बीती बातों का गम उठा..!
गम को भी हैं बहुत ही दर्द
वो… कहे किसे अपना दर्द…!
वो… तड़पता दिल के कोने में
फ़रियाद ‘तन’ को करता
तन बिचारा… सहे कितना..!..!
उसको भी अंगो में हैं… दर्द ऊठता..!!!!!

87 Views
You may also like:
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H. Amin
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
आज के नौजवान
DESH RAJ
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
झूला सजा दो
Buddha Prakash
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आईना और वक्त
बिमल
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
आजमाइशें।
Taj Mohammad
Waqt
ananya rai parashar
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
Loading...