Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2022 · 1 min read

दर्द अपना है तो

कौन बाँट सकता है भला
किसी के ग़म को ।
‘दर्द अपना है तो
तकलीफ़ भी अपनी होती ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
6 Likes · 110 Views
You may also like:
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वसंत बहार
Shyam Sundar Subramanian
अख़बारों में क्या रखा है?
Shekhar Chandra Mitra
४० कुंडलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर घर तिरंगा अभियान कितना सार्थक ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
ज़ालिम दुनियां में।
Taj Mohammad
पापा
Nitu Sah
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
हमारी धरती
Anamika Singh
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
परमात्मनः प्राप्तया: स्थानं हृदयम्
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
अपने किसी पद का तू
gurudeenverma198
✍️शाम की तन्हाई✍️
'अशांत' शेखर
कुछ तो उसमें
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी
लक्ष्मी सिंह
बड़ी आरज़ू होती है ......................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
गुमनाम ही रहने दो
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल
Anis Shah
*निराकार भाव* (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
दिन जल्दी से
नंदन पंडित
Loading...