Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
Apr 30, 2022 · 1 min read

दर्द।

एक हम ही है गलत सबकी नजरों में।
दर्द ना दिखा किसी को बहते अश्कों में।।

यूं गहरी मोहब्बत ना मिलती है दिलों में।
हम खुद के जैसे है हमें ना गिनो बहुतों में।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 2 Comments · 105 Views
You may also like:
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
मतदान का दौर
Anamika Singh
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गधा
Buddha Prakash
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
कविराज
Buddha Prakash
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
"अशांत" शेखर
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुमसे इश्क कर रहे हैं।
Taj Mohammad
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
"अशांत" शेखर
बेरूखी
Anamika Singh
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
Loading...