Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

दर्दे दिल

कफ़न सिरहाने रखा है,
पर मौत आती नहीं है।
लाख कोशिशें कर ली,
दिल से वो जाती नहीं है।

दर्दे दिल किसे दिखाऊँ,
मेरा कोई साथी नहीं है।
इसका इलाज करूँ कैसे,
दवा कहीं पाती नहीं है।

जिसने ये दर्द दिया मुझे,
वो शक्ल दिखाती नहीं है।
तड़पता रहता हूँ यादों में
तड़प मेरी मिटाती नहीं है।

ना जाने क्या हो गया उसे,
कलम अब चलाती नहीं है।
सुलक्षणा जिंदगी का पाठ,
मुझे अब सिखाती नहीं है।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

326 Views
You may also like:
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
दहेज़
आकाश महेशपुरी
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
आस
लक्ष्मी सिंह
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
पिता
Kanchan Khanna
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...