Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

***दरद जिया का ***

* सावन आयो सजनवा ना आयो जी
** लायो बहार संग दुःखवा भी लायो जी।
*** रिमझिम बरसे बदरिया से बुंदियां
**** झरझर बरसे हैं गोरिया के अंसुवा।
***** यूं घुलमिल गए दोनों
****** न पहचाने कोई।
******* कौन सा है अंसुवा
******** और कौन सी है बुंदिया।

—-रंजना माथुर दिनांक 27/06/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

330 Views
You may also like:
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
इंतजार
Anamika Singh
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
कशमकश
Anamika Singh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
पहचान...
मनोज कर्ण
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Meenakshi Nagar
Loading...