Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2022 · 1 min read

दया***

हृदय से दया की अमृत धारा,
हमको सदा बहानी है।
दीन दुखी असहायों को,
अमृत धारा से सिंचित करना हैं।
न रहे कभी गम का साया,
ऐसा कल्प वृक्ष उगाना है।
हृदय से दया की अमृत धारा,
हमको सदा बहानी है।
जीवन के इस संग्राम में,
कभी आहत न होना है।
सतत दया का दीप प्रज्वलित कर,
हमें सदा रण वीर होना है।
नई चेतना की जागृति कर,
घर-घर तक पहुंचाना है।
दया करुणा प्रेम का,
सभी को पाठ पढ़ाना है।
हृदय से दया की अमृत धारा,
हमको सदा बहानी है।।

74 Views
You may also like:
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
महबूब ए इश्क।
Taj Mohammad
मेरे अल्फाज़...
"धानी" श्रद्धा
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
✍️कुछ हंगामा करना पड़ता है✍️
'अशांत' शेखर
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
✍️'गंगा बहती है'✍️
'अशांत' शेखर
हमने हंसना चाहा।
Taj Mohammad
रूला दे ये ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️भोंगे✍️✍️
'अशांत' शेखर
फिजूल।
Taj Mohammad
सोचा था जिसको मैंने
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
साँझ
Alok Saxena
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी मौत पर खत्म होगी
Dr fauzia Naseem shad
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
गजल क्या लिखूँ कोई तराना नहीं है
VINOD KUMAR CHAUHAN
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
शबनम।
Taj Mohammad
*राम राम जय सीता राम*
Ravi Prakash
Loading...