Oct 5, 2016 · 1 min read

दया से हमारा भरो माँ खज़ाना

दया से हमारा भरो माँ खज़ाना
हमें मात अम्बे कभी मत भुलाना

कहीं पाप की राह पर चल न दें हम
हमें दुर्गुणों से सदा माँ बचाना

अगर हार देना हमें माँ यहाँ तो
सफलता का अमृत भी हमको पिलाना

नहीं लक्ष्य से मन भटकने ये पाए
इसे मार्ग बस मोक्ष का माँ दिखाना

अगर भूल हमसे कोई हो भी जाए
हैं संतान तेरी गले माँ लगाना

ये अरदास माँ कर रही ‘अर्चना’अब
कभी हाथ अपना न हमसे छुड़ाना
डॉ अर्चना गुप्ता

166 Views
You may also like:
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
हमारी जां।
Taj Mohammad
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Little baby !
Buddha Prakash
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
आज फिर
Rashmi Sanjay
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता
Ray's Gupta
उसूल
Ray's Gupta
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
Loading...