Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

दया के तुम हो सागर पापा।

दया के तुम हो सागर पापा,,,
करुणा के तुम अवतारी।
समाज में तुम हो यथार्थ पापा,,,
मिलती तुमसे हिम्मत सारी।।

इस समाज की परिभाषा,,
तुमने मुझे बताई पापा।
जीवन की हर अभिलाषा,,,
मैंने तुमसे पाई पापा।।

मेरे पग पग पर पापा,,,
सीख तुम्हारी काम आई है।
तुमसे सीखा मैंने पापा,,,
क्या अच्छाई क्या बुराई है।।

इस वसुंधरा पर ना कोई तुमसा पापा,,,
धन्य है भाग्य मेरा जो तुमको मैंने पाया।
जी करता है तुमको रखूं ईश्वर के संग पापा,,,
मेरी हर मुश्किल में तुम्ही काम हो आते पापा।।

स्वार्थ भरी इस दुनिया में पापा,,,
कहां कोई निस्वार्थ करता है।
मेरे संग जो किया है पापा,,,
ऐसा धर्मार्थ कहां कोई करता है।।

मेरे जीवन पर तेरा कर्ज है पापा,,,
किसी भी फर्ज से ना उतरेगा ये पापा।
भय मुक्त जीवन का मेरे निर्माण किया तुमने पापा,,,
प्रत्येक प्रसन्नता से भाव विभोर किया तुमने पापा।।

पिता पुत्र का रिश्ता अपरिभाषित है जग में,,,
शब्द ही कम पड़ जाएंगे चाहे हो जितने मन में।
मेरे जीवन में आप देव तुल्य है पापा,,,
आप बड़े बहुमूल्य है पापा।
आपका ना कोई मोल है पापा,,,
आप बड़े अनमोल है पापा।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
122 Views
You may also like:
प्रीत
अमरेश मिश्र 'सरल'
ख्वाबों को हकीकत में बदल दिया
कवि दीपक बवेजा
■ मुक्तक / सुबह का चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
gurudeenverma198
मेरा भारत
Alok Vaid Azad
यह यादें
Anamika Singh
*"चित्रगुप्त की परेशानी"*
Shashi kala vyas
औलाद
Sushil chauhan
एतबार कर मुझपर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जहाँ न पहुँचे रवि
विनोद सिल्ला
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
वृद्ध (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तानाशाह
Shekhar Chandra Mitra
शिवराज आनंद/Shivraj Anand
Shivraj Anand
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल /Arshad Rasool
फौजी
Seema 'Tu hai na'
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
गम को भुलाया जाए
Dr. Sunita Singh
रात है यह काली
जगदीश लववंशी
व्यास पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ जीने का अंदाज़ “
DrLakshman Jha Parimal
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
The Deep Ocean
Buddha Prakash
Break-up
Aashutosh Rajpoot
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
वृद्धाश्रम
मनोज कर्ण
सच सच बोलो
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...