Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

दम तोड़ती भुखमरी

आसरा हो जो तेरे दीदार का
है इलाजे मर्ज़ इस बीमार का

पा बुलन्दी शोहरतों के रास्ते
करना मत सौदा मगर क़िरदार का

हौसला ग़र होगी हासिल जीत भी
शोक क्या हरदम मनाना हार का

हर दफ़ा साहिल पे डूबी कश्तियाँ
मिट गया डर दिल से अब मझधार का

हाशिये में तोड़ती दम भुखमरी
हाल अब बाज़ार सा अख़बार का

सुशान्त वर्मा

108 Views
You may also like:
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Santoshi devi
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पापा
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
बंदर भैया
Buddha Prakash
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
Loading...