Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2022 · 1 min read

दंगा पीड़ित

दंगा पीड़ित

इनका भी था ,इक सपना ,
कि समाज से ,इन्हे भी प्यार मिले…
पर मिली इन्हे दुश्वारियाँ,
और ईर्ष्या क घाव मिले…
पल रहे हैं शिवरों में
जो देश के भविष्य हैं,
थी उम्मीद जिसे प्रकाश की,
उन्हें बदले में अंधकार मिले…
खुदगर्ज राजनीति के,
मासुम भी शिकार हुऎ…
क्या सोचेंगे ऎ राष्ट्रवाद,
क्या समाज के लिये जियें,
बस कुंठित ना हों समाज से,
कदम कहीं..जो डग..मगा.गयॆ

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
वायु वीर
वायु वीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
तुम्हारी छवि
तुम्हारी छवि
Rashmi Sanjay
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दूर हमसे
दूर हमसे
Dr fauzia Naseem shad
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
✍️निर्माणाधीन रास्ते✍️
✍️निर्माणाधीन रास्ते✍️
'अशांत' शेखर
मुकद्दर।
मुकद्दर।
Taj Mohammad
सुरत और सिरत
सुरत और सिरत
Anamika Singh
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
*कहॉं दो-चार घंटे से अधिक बच्चे झगड़ते हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*कहॉं दो-चार घंटे से अधिक बच्चे झगड़ते हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
वर्णमाला
वर्णमाला
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
विश्ववाद
विश्ववाद
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
Vishal babu (vishu)
#कविता
#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
परिन्दे धुआं से डरते हैं
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
महादेव का भक्त हूँ
महादेव का भक्त हूँ
लक्ष्मी सिंह
" जननायक "
DrLakshman Jha Parimal
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
Loading...