Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 18, 2022 · 1 min read

दंगा पीड़ित

दंगा पीड़ित

इनका भी था ,इक सपना ,
कि समाज से ,इन्हे भी प्यार मिले…
पर मिली इन्हे दुश्वारियाँ,
और ईर्ष्या क घाव मिले…
पल रहे हैं शिवरों में
जो देश के भविष्य हैं,
थी उम्मीद जिसे प्रकाश की,
उन्हें बदले में अंधकार मिले…
खुदगर्ज राजनीति के,
मासुम भी शिकार हुऎ…
क्या सोचेंगे ऎ राष्ट्रवाद,
क्या समाज के लिये जियें,
बस कुंठित ना हों समाज से,
कदम कहीं..जो डग..मगा.गयॆ

2 Likes · 48 Views
You may also like:
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
I feel h
Swami Ganganiya
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
फ़ासला
मनोज कर्ण
Little sister
Buddha Prakash
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
“ कोरोना ”
DESH RAJ
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सच
अंजनीत निज्जर
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
Loading...