Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 26, 2021 · 1 min read

थोड़ा थोड़ा लिखना चाहता हूँ मैं

शीर्षक:- थोडा़-थोड़ा लिखना चाहता हुँ मैं.।

ख्वाबों को सजाता हुँ मैं
मंजिलों को ढूदने निकल जाता हुँ मैं
रास्तें जुदा होते है फिर भी,
थोड़ा-थोड़ा लिखना चाहता हुँ मैं.।

उम्र की लकीरों से फिसलता हुँ मैं
कहीं न कहीं राहों में तूमसे मिलता हुँ मैं
खामोशीयों में कब तक ठनी रहेगी बातें,
थोड़ा-थोड़ा लिखना चाहता हुँ मैं.।

अंगों में पीड़ा लिए फिरता हुँ मैं
ज्यों क त्यों बिकता हुँ मैं
सांसों में धरती की गंध लिए,
थोड़ा-थोड़ा लिखना चाहता हुँ मैं.।

स्वर्णिम सा चमकना चाहता हुँ मैं
संग तेरे दुश्कर: से लड़ना चाहता हुँ मैं
अपेक्षायों से भाव प्रकट कर,
थोड़ा-थोड़ा लिखना चाहता हुँ मैं.।

‘शेखर सागर’

2 Likes · 147 Views
You may also like:
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
न्याय
Vijaykumar Gundal
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
दोस्त हो तो ऐसा
Anamika Singh
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
हर लम्हा।
Taj Mohammad
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️जेरो-ओ-जबर हो गये✍️
"अशांत" शेखर
✍️सोया हुवा शेर✍️
"अशांत" शेखर
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
दर्द होता है
Dr fauzia Naseem shad
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* उदासी *
Dr.Alpa Amin
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...