Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 7, 2017 · 1 min read

*** थाह नहीं ***

तेरा यह गांभीर्य,
लिए है कितनी गहराई?
है आभास नहीं।
मांँ कहलाना हे वसुंधरे,
क्या होता है आसान कभी?
जगत् माता निज उर पर,
तू सहिष्णुता की प्रतिमूर्ति बन,
सहती रही स्व कुपुत्रों के उत्पात कई।
तेरी ही छाती को विदीर्ण होते,
युगों युगों से देखा है।
तेरे विशाल ममतामयी उर को,
वीभत्स रूप से,
पूर्ण रक्त रंजित कर डाला बारम्बार।
करुण रुदन व आर्त नाद,
और क्रंदन की भीषण विभीषिका सही,
अवनि तेरे सुपुत्रों ने बहुत कभी।
तथापि तूने हे सुमाता,
दर्शाया अप्रतिम धैर्य और,
अतुल्य त्याग को ही।
ममत्व में न किया,
भेदभाव कहीं।।
सर्वस्व किया न्योछावर सब पर,
फिर भी तूने इकसार सदा।
यहीं तूने पढ़ाया पाठ हमें,
ममत्व के उदारीकरण का।
हे मांँ,
जग जननी ओ धरती माँ,
धन्य धन्य ओ वसुधा माँ।
——रंजना माथुर दिनांक 23/07/2017 (मेरी स्व रचित व मौलिक रचना ) ©

365 Views
You may also like:
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
अनमोल राजू
Anamika Singh
संघर्ष
Sushil chauhan
Security Guard
Buddha Prakash
पिता
Aruna Dogra Sharma
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
प्यार
Anamika Singh
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धन्य है पिता
Anil Kumar
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...