Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Nov 13, 2021 · 1 min read

थक चुकी हूं मैं

थक चुकी हूं मैं
घुट-घुट के यूं जीने से,
डर-डर के बाहर निकलने से,
समाज के आरोपों से, तानों से।
लोगों की गन्दी नज़रों से
घर-दफ्तर के हैवानों से
झुठे सियासी वादों से।
थक चुकी हूं मैं।
मुझको अब खुलकर जीना है
मुझको भी उड़ान भरना है।
मुझ पर थोड़ा रहम खोओ
मुझको तुम इंसाफ दिलाओ
मुझको महफूज़ महसूस कराओ।
क्योंकि…
थक चुकी हूं मैं
डर-डर के यूं जीने से।

– श्रीयांश गुप्ता

4 Likes · 4 Comments · 293 Views
You may also like:
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
पहचान...
मनोज कर्ण
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
अधुरा सपना
Anamika Singh
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...