Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 10, 2021 · 1 min read

त्रिशरण गीत

बुद्ध की शरण में आए हैं,
अब यही कहते जाना है,
‘बुद्धम् शरणम् गच्छामि’,
ज्ञान का दीप जलाना है।

बुद्ध ही हमारे ‘मैत्रेय’ हैं,
धम्म का मार्ग दर्शाते हैं,
‘धम्मं शरणम् गच्छामि’,
अब यही कहते जाना है।

बुद्ध करुणा के सागर हैं,
निर्वाण का ध्यान सिखाते हैं,
‘संघं शरणम् गच्छामि’,
अब यही कहते जाना है।

‘त्रिशरण’ को अपनाना है,
‘बोधिसत्व’ को है अब पाना,
‘बुद्ध’, ‘धम्म’,’संघ’ में है जाना,
‘पंचशील’ का ज्ञान है पाना।

मध्यम मार्ग अपनाना ,
त्रिशरण को आगे ले जाना ,
अब यही कहते जाना है ,
बुद्ध की शरण में आए हैं ।

✍🏼
बुद्ध प्रकाश;
मौदहा,हमीरपुर,
*** उत्तर प्रदेश।

3 Likes · 2 Comments · 815 Views
You may also like:
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
औरतें
Kanchan Khanna
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
ऊपज
Mahender Singh Hans
क्या क्या पढ़ा है आपने ?
"अशांत" शेखर
✍️वो मील का पत्थर....!
"अशांत" शेखर
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख ********
Ravi Prakash
गज़लें
AJAY PRASAD
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
प्यार
Swami Ganganiya
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...