Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

तौहफा समझ के ………..

तौहफा समझ के झोली में डाली नहीं गयी,
आज़ादी इक दुआ थी जो खाली नहीं गयी|
बलिदान तो अनमोल थे कीमत चुकाते क्या |
हमसे तो विरासत भी संभाली नहीं गयी|

हवा का रुख किधर होगा ,सही पहचानते हैं हम,
वही कर के दिखा देते जो मन में ठानते हैं हम|
वतन का क़र्ज़ है हम पर हमारे खूं का हर कतरा ,
इसे कैसे चुकाना है बखूबी जानते हैं हम|
–आर० सी० शर्मा “आरसी”

1 Like · 2 Comments · 137 Views
You may also like:
पिता
Neha Sharma
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
If we could be together again...
Abhineet Mittal
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
पिता
Buddha Prakash
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
प्यार
Anamika Singh
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...