Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2022 · 1 min read

तोड़ डालो ये परम्परा

तोड़ डालो ये परम्परा छोड़ दो भगवान को
माँ, बेटी और बहन को हर घड़ी सम्मान दो

है कहाँ भगवान किसने देखा है भगवान को
है पता कोई क्या उसका क्यों बने नादान हो
शिक्षा के मंदिर जाकर शिक्षा का वरदान लो
माँ, बेटी और बहन को……………
पड़े पुजारी जेलों में भगवान के घर है ताला
मात-पिता को गाली देते मूर्त को डालें माला
भाग्य कर्म करे बनता है ये सच्चाई जान लो
माँ, बेटी और बहन को……………
जन्म मरण का मुहुर्त कौन जानता है बोलो
नहीं बता सकते हो तो हाथों के धागे खोलो
कठपुतली क्यों बनो अपने को पहचान लो
माँ, बेटी और बहन को……………
निकलो अब जंजीरों से वक्त पड़ा है बाकी
संवरेगा जीवन “विनोद” उम्र बहुत है बाकी
उठो जरा तुम क्यों ऐसे बने हुए अंजान हो
माँ, बेटी और बहन को……………

स्वरचित:—–
( विनोद चौहान )

3 Likes · 2 Comments · 80 Views
You may also like:
घर-घर में हो बाँसुरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
दर्शय चला
Yash Tanha Shayar Hu
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
कहाँ चले गए
Taran Singh Verma
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
✍️मसला तो ख़्वाब का है
'अशांत' शेखर
" समर्पित पति ”
Dr Meenu Poonia
कब आओगे ,श्याम !( श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
■ कटाक्ष / कोरी क़वायद
*प्रणय प्रभात*
The Bridge
Buddha Prakash
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
लगा हूँ...
Sandeep Albela
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
Writing Challenge- वादा (Promise)
Sahityapedia
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
लफ़्ज़ कुछ भी नहीं है कहने को
Dr fauzia Naseem shad
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
महाकवि
Shekhar Chandra Mitra
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स...
Manisha Manjari
बेताब दिल
VINOD KUMAR CHAUHAN
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
जीने की वजह
Seema 'Tu hai na'
"कोरोना लहर"
MSW Sunil SainiCENA
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...