Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तेरे शहर मे गुज़ारी थी मैने एक जिंदगी

तेरे शहर मे गुज़ारी थी मैने एक जिंदगी
पर कैसे कह दूं हमारी थी एक जिंदगी ||

जमाने से जहाँ मेने कई जंग जीत ली
वही मोहब्बत से हारी थी एक जिंदगी ||

मुझको ना मिली वो मेरा कभी ना थी
तुमने जो ठुकराई तुम्हारी थी जिंदगी ||

महल ऊँचा पर आंशु किसी के फर्स पर
तब मुझको ना गवारी थी एक जिंदगी ||

कलम की उम्र मे पत्थर उठा रही है
कितनी किस्मत बेचारी थी एक जिंदगी||

तेरे शहर मे गुज़ारी थी मैने एक जिंदगी..

© शिवदत्त श्रोत्रिय

1 Comment · 243 Views
You may also like:
पिता
Anis Shah
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️आरसे✍️
"अशांत" शेखर
#15_जून
Ravi Prakash
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
शेर राजा
Buddha Prakash
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
# पिता ...
Chinta netam " मन "
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
मायका
अनामिका सिंह
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"बारिश संग बदरिया"
Dr Meenu Poonia
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
पिता
dks.lhp
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
कारस्तानी
Alok Saxena
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H. Amin
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
Loading...