Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 17, 2022 · 1 min read

तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं

ऐतबार होने लगा है
अब फिर से दुनिया तुझ पर….
ए जिंदगी कहीं फिर से
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं….
– कृष्ण सिंह

1 Like · 69 Views
You may also like:
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हालात
Surabhi bharati
दया***
Prabhavari Jha
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
घुसमट
"अशांत" शेखर
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अल्फाज़ ए ताज भाग-6
Taj Mohammad
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
परिणय
मनोज कर्ण
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
सुन्दर घर
Buddha Prakash
बचपन की यादें
Anamika Singh
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️ठोकर✍️✍️
"अशांत" शेखर
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
Loading...