Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तेरे आगोश ने दिलवर

तेरे आगोश  ने  दिलवर  मुझे  जीना  सिखाया  है।
मैं   बेजां   था  मैं  वीरां  था  तूने  ही  जिलाया  है।

मतीरे -इश्क  में  तेरे  मैं  रुसवा  था  महब  मैं  था।
तूने  ही  करम  करके  मुझे   मुझसे   मिलाया   है।

तारीके-  शबे-  मजहूल   सी   थी   गत   हुई   मेरी।
करके महजूफ तमाजत को, सिकालत को मिटाया है।

सरा  से उस फलक तक है जो ये जिक्र उल्फत का।
तेरी  उमदत  किरामत  को,  मैंने  हर सम्त पाया है।

मेरी  दरकार  के  देखो  ये  चलते  सिलसिले  यूँ ही।
आब- उल -उल्फते- दिल  को  बोशों  से पिलाया है।

तुझे  मैं  उम्र  दे  ‘इषुप्रिय’  बिता  दूँ  जिंदगी अपनी।
मेरे  हमदम  मेरे  मेहरम  तुझे  ही  खुद  में  पाया है।

—————————————————————

1 Like · 174 Views
You may also like:
दर्द।
Taj Mohammad
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
ये सियासत है।
Taj Mohammad
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H. Amin
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
यादें
Sidhant Sharma
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
“ गंगा ” का सन्देश
DESH RAJ
आदर्श पिता
Sahil
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
कभी अलविदा न कहेना....
Dr. Alpa H. Amin
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता की याद
Meenakshi Nagar
Loading...