Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2023 · 1 min read

तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।

तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
चलता क्या है दिल में तेरे अब मैंने जान लिया।।
मैं तो चाहूं दिल से तुझको तू दूर दूर ही जाता है।
जैसा तू है बनूंगा वैसा अब मैंने भी ठान लिया।।
राजेश व्यास अनुनय

1 Like · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajesh vyas
View all
You may also like:
*टिकटों का संग्राम 【कुंडलिया】*
*टिकटों का संग्राम 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-223💐
💐प्रेम कौतुक-223💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
बाबूजी
बाबूजी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
दोस्त के शादी
दोस्त के शादी
Shekhar Chandra Mitra
यूं रूबरू आओगे।
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
Anand Kumar
हिंदी दिवस पर हर बोली भाषा को मेरा नमस्कार
हिंदी दिवस पर हर बोली भाषा को मेरा नमस्कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
पिता
पिता
Shailendra Aseem
✍️...और फिर✍️
✍️...और फिर✍️
'अशांत' शेखर
✍️अपने .......
✍️अपने .......
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
"सत्ता व सियासत"
*Author प्रणय प्रभात*
'पूरब की लाल किरन'
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
-- बेशर्मी बढ़ी --
-- बेशर्मी बढ़ी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
“बदलते भारत की तस्वीर”
“बदलते भारत की तस्वीर”
पंकज कुमार कर्ण
Loading...