Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तेरी यादें

तेरी याद में कुछ इस कदर मैं खो जाता हूँ,
कभी कभी तो मैं रोते रोते सो जाता हूँ।
तू मिले ना मिले नहीं परवाह मुझे,
तेरे दिल में मैं, मेरे दिल में तू रहे, बस इतनी सी है चाह मुझे।।

5 Likes · 268 Views
You may also like:
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
पिता
Meenakshi Nagar
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
पिता
Buddha Prakash
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...