Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2016 · 1 min read

” तेरी जुल्फों की महकन से दूर हम जा नहीं सकते “

तेरी जुल्फों की महकन से दूर हम जा नही सकते..
जो बालों पे लगे है फूल कभी मुरझा नहीं सकते…न्योछावर कर दी तुझपे अपनी सारी जिन्दगानी…मोहब्बत है तुमसे कितनी कभी बतला नहीं सकते…

*** प्रियांशु कुशवाहा, सतना,( म.प्र)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
270 Views
You may also like:
आग लगा दो पर्दे में
Shekhar Chandra Mitra
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
पढ़े लिखे खाली घूमे,अनपढ़ करे राज (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
मछली जलपरी
Buddha Prakash
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
इंतजार करो में आऊंगा (इंतजार करो गहलोत जरूर आएगा,)
bharat gehlot
हिन्दी
Saraswati Bajpai
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
का हो पलटू अब आराम बा!!
Suraj kushwaha
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
वो बोली - अलविदा ज़ाना
bhandari lokesh
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
जीवन अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
मेरी आंखों के ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
समीक्षा सॉनेट संग्रह
Pakhi Jain
उसे चाहना
Nitu Sah
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
*कुछ सुन्दर-सा कूड़ा होगा (बाल कविता/हास्य कविता)*
Ravi Prakash
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
पर्यावरण
विजय कुमार 'विजय'
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...