Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 12, 2016 · 1 min read

तेरी चाहत तेरी वफ़ा ले जाय

तेरी चाहत तेरी वफा ले जाय
जाने किस सिम्त ये नशा ले जाय

इस कदर बा हुनर नही है तू
अपना गम मुझसे जो छुपा ले जाय

आज के दौर मे ये मुश्किल है
अपना वादा कोई निभा ले जाय

मै भी अंजान इक मुसाफिर हूं
जाने किस सिम्त रास्ता ले जाय

डर रहा हूं मै हाल से अपने
मेरा मॉज़ी न वो चुरा ले जाय

वो मुहब्बत का इक सरापा है
उसको तोहफे मे कोई क्या ले जाय

है अजब मगरिबी चलन आज़म
छीन कर ऑख से हया ले जाय

1 Like · 259 Views
You may also like:
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Santoshi devi
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बोझ
आकांक्षा राय
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
बुध्द गीत
Buddha Prakash
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
संघर्ष
Sushil chauhan
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
झूला सजा दो
Buddha Prakash
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
बुआ आई
राजेश 'ललित'
Loading...