Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 20, 2020 · 2 min read

तेरी एक तिरछी नज़र

रोता है आसमान क्यों सारा , रोती है क्यों हवाएँ ?
थम गई है इस शहर की सांसे कोई नज़र न आये ,

तेरी एक तिरछी नज़र ने हमें कहाँ पर पहुंचा दिया,
अपनी हद में रहने को हमें एक रास्ता बता दिया ,
“सादगी ” से रहने का सबक सबको सिखा दिया ,
अनमोल जिंदगी की चाह ने तेरे क़दमों में ला दिया I

रोता है आसमान क्यों सारा , रोती है क्यों हवाएँ ?
थम गई है इस शहर की सांसे कोई नज़र न आये ,

गुलशन को छेड़ते-2 हुए वो किस मुकाम पर आ गए ,
दौलत की चमक देखते-2 हुए मौत के करीब आ गए ,
नफरत का कारोबार करते-2 गर्त के नजदीक आ गए,
तू ही बचा ले इस जहाँ को को तेरी दहलीज पर आ गए ,

रोता है आसमान क्यों सारा , रोती है क्यों हवाएँ ?
थम गई है इस शहर की सांसे कोई नज़र न आये ,

सोलह श्रृंगार करके तेरे दर दुखयारी तेरी ओर निहार रही,
“फूलों” को माफ़ कर दे बड़ी आस से तेरी राह को देख रहीं,
पिया की आँगन में खड़ीं होकर रहम की भीख मांग रही ,
अपनी नज़रों का दे दे सहारा फूलों की अँखियाँ ढूढ़ रही I

रोता है आसमान क्यों सारा , रोती है क्यों हवाएँ ?
थम गई है इस शहर की सांसे कोई नज़र न आये ,

कली से जब कली मिली तो फूलों की एक नगरी बस गई,
नेकी से जब नेकी मिली तो इंसानियत की “दिया” बन गई ,
गरीब-मज़लूम की ओर उठे हाथ तो पिया की प्यारी बन गई,
इंसानियत की ओर बढ़े हाथ तो “राज” तेरी दीवानी बन गई I

रोता है आसमान क्यों सारा , रोती है क्यों हवाएँ ?
थम गई है इस शहर की सांसे कोई नज़र न आये ,

2 Likes · 369 Views
You may also like:
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
लेखनी
Anamika Singh
दया करो भगवान
Buddha Prakash
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
*आजादी का अमृत महोत्सव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमारी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️साँसों को हवाँ कर दे✍️
'अशांत' शेखर
अपनी ख़्वाहिशों को
Dr fauzia Naseem shad
हाय रे ये क्या हुआ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
*विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस प्रदर्शनी : एक अवलोकन*
Ravi Prakash
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
भुला दो मुझको
Dr fauzia Naseem shad
✍️अधमरी सोंच✍️
'अशांत' शेखर
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
भटकता चाँद
Alok Saxena
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
सुरत और सिरत
Anamika Singh
💐💐सत्संगस्य महत्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
“ गंगा ” का सन्देश
DESH RAJ
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...