Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 7, 2017 · 1 min read

= तेरा साथ है तो =

अगर तुम झुकने से खुश हो,
तो हम झुक जाएंगे।
बिन साथ के तुम्हारे तो,
दिल के तार ही रुक जाएंगे।
हो तुम पास मेरे,
तो है जिन्दगी।
बिना तुम्हारे तो,
हर सांस को हम ठुकराएंगे।

—-रंजना माथुर दिनांक 22/07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना) ©

300 Views
You may also like:
दहेज़
आकाश महेशपुरी
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
कशमकश
Anamika Singh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...