Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author
May 25, 2022 · 1 min read

तेरा रूतबा है बड़ा।

वो अपने अंदर ना जानें कितनी खामोशियाँ लिए है बैठा ।
कम बोलना किसी भी इंसान के लिए खतरा होता है बड़ा।।1।।

ऐसे घुट घुट कर जीना ज़िन्दगी नहीं होती है इश्क की।
हर पल को दिल से जियों ज़िंदगी इक तोहफा है बड़ा।।2।।

गर कोई गम है तो दे दो मूझे जीने के लिए हमतो गम से है ही भरे।
पूंछ लो दीवानों से आशिको का दिल होता है बहुत बड़ा।।3।।

हर गम को तेरे बाटेंगे हम अक़ीदा करके तो देख मुझ पर।
तू ना समझ पर मेरी ज़िंदगी में तेरा रुतबा है बड़ा।।4।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 45 Views
You may also like:
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता
Vandana Namdev
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
'बेदर्दी'
Godambari Negi
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
कलयुग की पहचान
Ram Krishan Rastogi
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
लांगुरिया
Subhash Singhai
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
मत करना
dks.lhp
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सच तो यह है
gurudeenverma198
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...