Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#27 Trending Author
May 23, 2022 · 1 min read

तेरा यह आईना

रोक देता है मेरे कदमों को,
आगे बढ़ने से और ,
लौट आता हूँ वापस मैं,
अपने पुराने मूढ़ में,
क्योंकि शीशे की तरह है,
तेरा यह आईना।

बेदाग पवित्र तेरा यह आईना,
चांदनी में सितारों के संग,
चमकता चांद सा तेरा मुखड़ा,
देखता हूँ जिसको मैं,
अकसर चांदनी रात में,
देखता हूँ खुद को मैं इसमें।

तरसता हूँ हमेशा मैं,
तेरे इस मुखड़े को देखने को,
तुझको छूकर अपनापन देखने को,
तेरे लबों से मोहब्बत के शब्द सुनने को,
और बनाता हूँ तेरी तस्वीर मैं,
देखकर तेरे आइने को।

कोसता हूँ मैं अपनी तकदीर को,
क्यों तलबगार हूँ मैं तेरा,
आता है मुझको गुस्सा बहुत,
दोनों के बीच इस दूरी पर,
कभी तो मन करता है,
कि फोड़ दूँ तेरा यह आईना,
लेकिन मुस्करा देता है मेरा चेहरा,
सच में देखकर तेरा यह आईना।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

1 Like · 1 Comment · 91 Views
You may also like:
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
मां
Umender kumar
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
गरीब आदमी।
Taj Mohammad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
“ WHAT YOUR PARENTS THINK ABOUT YOU ? “
DrLakshman Jha Parimal
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
हर इक वादे पर।
Taj Mohammad
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
*भादो की शुभ अष्टमी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
मेरी प्यारी प्यारी बहिना
gurudeenverma198
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदमी की आवाज हैं नागार्जुन
Ravi Prakash
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
Loading...