Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

तेरा मेरा साथ

जब तक रहे चांद सूरज गगन में,
साथी तेरा हाथ थाम कर मैं चलूं।
साथ न छूटे ये जन्मों जन्म तक,
बांट सुख दुःख संग चलती रहूं।

चांद के जैसी उम्र हो प्यार की,
जुड़ी एहसासों से ये धडकन रहे।
रूह हो एक दोनों की तन से जुदा ,
मन में न इस जमाने की दुविधा रहे।

मुस्कान मेरी तेरे होंठों पर सजे,
गम सारे धो दूं मेरे नयनों से तेरे।
तेरी हथेली पर चमके भाग्य मेंरा,
मेरे माथे पर सौभाग्य तेरा ही रहे।

कदम से कदम हम दोनों के मिले,
राह संग जीवन की मिलकर चलें।
चाहतों के मंजर इस तरह तय करें,
समुंद्र की भी गहराई को माप लें।

स्वरचित एवम मौलिक
कंचन वर्मा
शाहजहांपुर
उत्तर प्रदेश

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरे शब्दों में जो खुद को तलाश लेता है।
मेरे शब्दों में जो खुद को तलाश लेता है।
Manoj Mahato
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
बेइंतहा सब्र बक्शा है
बेइंतहा सब्र बक्शा है
Dheerja Sharma
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
Jogendar singh
जां से बढ़कर है आन भारत की
जां से बढ़कर है आन भारत की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
"आया मित्र करौंदा.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
2996.*पूर्णिका*
2996.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...