Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2021 · 1 min read

तेरा आईना हो जाऊं

कुछ बातों को राज ही रहने दे , कुछ बातें मैं छुपाऊं,
मुझमें तू झांक ले सच्चाई मेरी, तेरा आईना हो जाऊं।।१

तू चांद- निशा बन जाए मेरा ,मैं चांदनी बन जाऊं
तू भी रोशन रात करें और मैं भी रोशन हो जाऊं ।।२

तू मेरी खुशी का कारण हो, मैं तेरी मुस्कान बनू
तू भी शून्य हो जाए , मैं अपना किरदार निभाऊ।।३

नित सत्य पथ पर चलकर के हम ऐसे ऐसे अंक गडे,
कुछ शून्य तू भी ऐड करें , कुछ शून्य में भी लगाऊं।।४

ना कुछ तू बता अब मुझको, ना मैं कुछ अब सुनाऊं,
बारिश हो रही है,ना बचाऊ खुद को, मैं भीग जाऊं।।५

न कुछ पूछ अब मुझसे , न कुछ तू ओझल रहने दे
तू सब जानता है अब तुझे अपने बारे में क्या बताऊं।।६

तू मेरे गम का मेल धो ,मैं तेरा मरहम बन जाऊं
तू मेरी बाती हो जाए और मैं तेरा दिया बन जाऊं।।७

ये जीवन पथ बहुत लंबा है , रहबर मान लूं तुझको
राहों में जब भी गुजरे अंधकार से, मैं जुगनू हो जाऊं।।८

✍कवि दीपक सरल

2 Likes · 334 Views
You may also like:
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो मेरी कौन थी ?
वो मेरी कौन थी ?
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
💐प्रेम कौतुक-414💐
💐प्रेम कौतुक-414💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* सूर्य स्तुति *
* सूर्य स्तुति *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चापलूसी का ईनाम
चापलूसी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
ज़मज़म देर तक नहीं रहता
ज़मज़म देर तक नहीं रहता
Dr. Sunita Singh
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
हैं शामिल
हैं शामिल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बन नेक बन्दे रब के
बन नेक बन्दे रब के
Satish Srijan
समय से पहले
समय से पहले
अंजनीत निज्जर
लैपटॉप सी ज़िंदगी
लैपटॉप सी ज़िंदगी
सूर्यकांत द्विवेदी
मां शारदे को नमन
मां शारदे को नमन
bharat gehlot
कुछ तो है
कुछ तो है
मानक लाल"मनु"
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
इंसानियत की
इंसानियत की
Dr fauzia Naseem shad
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
✍️जब रिक्त हथेलियाँ...
✍️जब रिक्त हथेलियाँ...
'अशांत' शेखर
*सीता जी : सात दोहे*
*सीता जी : सात दोहे*
Ravi Prakash
■ सामयिक व्यंग्य
■ सामयिक व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
HE destinated me to do nothing but to wait.
HE destinated me to do nothing but to wait.
Manisha Manjari
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
शिव प्रताप लोधी
सीखने की भूख
सीखने की भूख
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
जादुई कलम
जादुई कलम
Arvina
आसमान से ऊपर और जमीं के नीचे
आसमान से ऊपर और जमीं के नीचे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Writing Challenge- स्वास्थ्य (Health)
Writing Challenge- स्वास्थ्य (Health)
Sahityapedia
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
"मेरा भोला बाबा"
Dr Meenu Poonia
पहनते है चरण पादुकाएं ।
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
दूसरी सुर्पनखा: राक्षसी अधोमुखी
दूसरी सुर्पनखा: राक्षसी अधोमुखी
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...