Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 4, 2021 · 1 min read

तेइस मार्च

तेइस मार्च

कैसे कैसे वीरों की भूमि है माँ भारती मेरी,
देश के लिए जिन्होंने सर्वस्व लुटा डाला।
छोटी सी उम्र में ही देश प्रेम की जगा अलख,
हम सब को ऋणी अपना बना डाला।

लेना था जो बदला लाला जी की शहादत का,
सॉन्डर्स को गोलियों से छलनी तुमने कर डाला।
जाग रहे हैं हिन्दुस्तानी बताने बरतानिया को,
सेंट्रल असेम्बली को ही बम से उड़ा डाला।

हे वीर शहीद भगत सिंह सुखदेव और राजगुरु,
याद रखेगा राष्ट्र जो बलिदान तुमने कर डाला।
तेईस मार्च को चूमा जब फांसी का फंदा तुमने,
बिगुल राष्ट्रवाद का जैसे देश भर में फूंक डाला।

शहीदों में नाम अपना खुशी खुशी लिखवाने को,
मौत को भी अपने गले हंस कर लगा डाला।
आज शहादत है जिन वीर हुतात्माओं की,
हाथ जोड़ सुमन श्रृद्धा के अर्पण मैने कर डाला।

हाथ जोड़ सुमन श्रृद्धा के अर्पण मैंने कर डाला।

संजय श्रीवास्तव
बालाघाट (मध्य प्रदेश)

160 Views
You may also like:
💐दोषानां निवारणस्य कृते प्रार्थना💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेहनत
Arjun Chauhan
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
का हो पलटू अब आराम बा!!
Suraj Kushwaha
मन के गाँव
Anamika Singh
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
✍️एक ख़ुर्शीद आया✍️
'अशांत' शेखर
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'विजय दिवस'
Godambari Negi
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
** शरारत **
Dr.Alpa Amin
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
बड़ी आरज़ू होती है ......................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
ये वतन हमारा है
Dr fauzia Naseem shad
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
Loading...