Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 30, 2022 · 1 min read

तू हकीकत से रू बरू होगा।

पेश है पूरी ग़ज़ल…

काश सुन पाता तू मेरी धड़कनों की सदा।
तो फिर कभी ना कहता यूं हमको बेवफा।।1।।

एक दिन तो तू हकीकत से रू बरू होगा।
तू खुद बखुद ही बन जायेगा मेरा रहनुमा।।2।।

सच तो सच ही रहता है सदा ज़िन्दगी में।
हर मोहब्बत जिन्दा रहती है बनके दास्तां।।3।।

तेरे ही खातिर गुलशन ए फूल उगाया है।
खुश्बुओ से महक रहे है अब सब अरमां।।4।।

देख तेरी मोहब्बत में हम बर्बाद हो गए।
बेवफाइयां तू करता रहा हमने की वफा।।5।।

खुदा के सिवा तवक्को नही है किसी से।
उससे बस तुझे मांगता हूं ए मेरे हमनवां।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 31 Views
You may also like:
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुबारक हो।
Taj Mohammad
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गमों के समंदर में।
Taj Mohammad
जंग
shabina. Naaz
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
सुरत और सिरत
Anamika Singh
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
हाय बरसात दिल दुखाती है
Dr fauzia Naseem shad
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
राजनेता
Aditya Prakash
मैं हो गई पराई.....
Dr.Alpa Amin
कभी जमीं कभी आसमां बन जाता है।
Taj Mohammad
हे दीन,दयाल,सकल,कृपाल।
Taj Mohammad
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
“ARBITRARY ACTING ON THE WORLD THEATRE “
DrLakshman Jha Parimal
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
Loading...