Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

तू सरिता मै सागर हूँ

तू सरिता मै सागर हूँ

विधा :- गीत

चंदा और चांदनी जैसे
तू मुझ मे़ है मै तुझ मे़ हूँ।
देह प्राण का ज्यूँ एक ही नाता
तू मुझ मे़ है मै तुझ मे़ हूँ ॥ चंदा और चांदनी जैसे

तेरी मंजिल बस मेरा साहिल
मेरा कोई नही किनारा
तू सरिता है मै सागर हूँ
जन्म जन्म का साथ हमारा।

स्वाद अलग स्वभाव एक है
तू मुझ मे़ है मै तुझ मे़ हूँ ॥चंदा और चांदनी. .

मै स्थिर तू चंचल है
मै खारा हूँ तू निर्मल है
समा गई तुम जिस पल मुझ मे़
मेरा तेरा एक ही जल है

तू अविरल मै ध्यान मग्न हूँ
तू मुझ मे़ है मै तुझ मे़ हूँ ॥चंदा और चांदनी

भाव भरी प्यासी नदियाँ तू
मै गहरा एक प्यार का सागर
तू बहती बलखाती सरिता है
मै तृप्त सदा हूँ इक गागर

तट बंधों कें ढह जानें पर
तुम मुझ मे़ है मै तुझ मे़ हूँ॥

चंदा और चांदनी जैसे
तू मुझ मे़ है मै तुझ मे़ हूँ ॥

सत्य प्रकाश शर्मा “सत्य ”
देहरादून

Tag: Poem
54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
दिल से हमको
दिल से हमको
Dr fauzia Naseem shad
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
*स्मृति: शिशुपाल मधुकर जी*
*स्मृति: शिशुपाल मधुकर जी*
Ravi Prakash
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
कवि रमेशराज
प्रेम
प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
शेखर सिंह
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
क्यूँ जुल्फों के बादलों को लहरा के चल रही हो,
क्यूँ जुल्फों के बादलों को लहरा के चल रही हो,
Ravi Betulwala
माँ
माँ
Arvina
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Sanjay ' शून्य'
गुरु का महत्व
गुरु का महत्व
Indu Singh
जीत-वीत के आ गया फिरसे, मोदी तानाशाह।
जीत-वीत के आ गया फिरसे, मोदी तानाशाह।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मन की गांठ
मन की गांठ
Sangeeta Beniwal
प्रेम कविता ||•
प्रेम कविता ||•
पूर्वार्थ
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
2429.पूर्णिका
2429.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Loading...