Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2022 · 1 min read

तू बोल तो जानूं

तेरी क्या मर्ज़ी है, तू बोले तो जानूं।
कैसी ये खुदगर्ज़ी है, तू बोले तो जानूं।
अपना हाल बता कर मुझसे कुछ तो बातें कर।
हम चाक जिगर के दर्जी हैं, टू बोले तो जानूं।।

Language: Hindi
Tag: ग़ज़ल
1 Like · 160 Views
You may also like:
कैसे कहूँ....?
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
यह मकर संक्रांति
gurudeenverma198
तपिसों में पत्थर
Dr. Sunita Singh
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
गुरुवर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
रिश्तो मे गलतफ़हमी
Anamika Singh
जो ज़िंदा है
AJAY PRASAD
✍️रवीश जी के लिए...
'अशांत' शेखर
जीवन व्यर्थ नही है
अनूप अंबर
दफन
Dalveer Singh
जब जब परखा
shabina. Naaz
*पत्रिका-समीक्षा*
Ravi Prakash
दिल यूँ ही नही मिला था
N.ksahu0007@writer
*आशिक़*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
//... कैसे हो भैया ...//
Chinta netam " मन "
कौन उठाए आवाज, आखिर इस युद्ध तंत्र के खिलाफ?
AJAY AMITABH SUMAN
✍️🦋सादगी तो ठीक है फिर उलझन क्यों है🦋✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने...
Manisha Manjari
Book of the day- कुछ ख़त मोहब्बत के (गीत ग़ज़ल...
Sahityapedia
माटी - गीत
Shiva Awasthi
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
*** " बिंदु और परिधि....!!! " ***
VEDANTA PATEL
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
Shekhar Chandra Mitra
खुद के वजूद को।
Taj Mohammad
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
Loading...