Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

तू बता , तू मुझे मिला कब है

तू बता तू मुझे मिला कब है
हूँ इन्तज़ार में गिला कब है

रात हो स्याह ,या कि सिन्दूरी
कुछ भी कहती भला शमा कब है

थक गया ज़िन्दगी से ही लड़ कर
आदमी मौत से लड़ा कब है

आज तक भी समझ नहीं आया
काम आती भला अना कब है

छोड़ घर जो निकल गया बाहर
कौन कह दे कि वो कहाँ ,कब है

कर ले कोशिश हजार पत्थर पे
पेड़ कोई उगा हरा कब है

379 Views
You may also like:
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
पिता
Neha Sharma
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इश्क
Anamika Singh
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
संत की महिमा
Buddha Prakash
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Saraswati Bajpai
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...