Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

तू नीर बहा दे

??????????
साहित्य पीडिया काव्य प्रतियोगिता – विषय – ” बरसात ”
??????????
कविता

शीर्षक – “तू नीर बहा दे”

प्रावृट् की
आ गयी है बेला
मेघवृत्त हुआ है अम्बर
उड़त- फिरत
है श्यामल मेघावरि अब तो रस बरसा दे
हे अंबुद! तू नीर बहा दे !

हुआ प्रचंड दिवाकर अब तक
अग्नि बरसती है नभ से
त्राहि-त्राहि जीवात्मााओं में
जन-जीवन की तृषा मिटा दे
हे अंबुद ! तू नीर बहा देे !

चिंतक दादुर मयूरा पुकारे
तृष्णार्त
हुआ विहगवृंद
चौपाये बिन जल हैं आकुल
अब तो
जग की प्यास बुझा दे
हे अंबुद ! तू नीर बहा देे !

आस जगा कर
भूमि पुत्र की
कोरा तूू निर्घोष न कर
इस बंजर-सी
शुष्क अवनि को
तनिक तू मृदु बना दे
हे अंबुद ! तू नीर बहा देे !

पयोदेव कर बद्ध है अनुनय
सम्मुख तेरे
याचक हैं हम
तकते तुझे कर रहे प्रतीक्षा
कर फैलाकर मांगे भिक्षा
पुण्य सलिल अमृत बरसा दे
हे अंबुद ! तू नीर बहा दे !

सकल सृष्टि
हरीतिमा मांगती
क्या तरुवर
क्या वल्लरि क्या पादप
तेरी एक झलक पा मेघा
स्मित स्निग्ध तृष्णा वारि बिखरा दे
हे अंबुद ! तू नीर बहा दे!

हर्षित होगी प्रकृति
पर्ण-पर्ण मुदित
तृण-तृण हिमिका दमकत
गाछ-गाछ झूमेंगे
संग तन्वंगियों के
तू नेह पीयूष टपका दे
हे अंबुद ! तू नीर बहा दे!

रंजना माथुर
अजमेर राजस्थान
मेरी स्वरचित व मौलिक रचना
©

3 Likes · 2 Comments · 176 Views
You may also like:
✍️गुनाह की सजा✍️
"अशांत" शेखर
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
बदरी
सूर्यकांत द्विवेदी
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
✍️बेपनाह✍️
"अशांत" शेखर
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नवगीत
Sushila Joshi
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
नींदों से कह दिया है
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी बे'जवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
आओ हम पेड़ लगाए, हरियाली के गीत गाए
जगदीश लववंशी
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
"अशांत" शेखर
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
हम तेरे रोकने से
Dr fauzia Naseem shad
मेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...