Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2022 · 1 min read

तू नज़र में

तू नज़र में था इस कद्र मेरे।
फिर नज़र में कोई नहीं आया ॥

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 163 Views
You may also like:
जानें क्यूं।
Taj Mohammad
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️दर्द दिल में....... ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तटस्थ बुद्धिजीवी
Shekhar Chandra Mitra
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ज़िंदगी मौत को तरसती है
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण अर्जुन संवाद
Ravi Yadav
मजदूर भाग -दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पूर्व जन्म के सपने
RAKESH RAKESH
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
करनी होगी जंग ( गीत)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हे मनुष्य!
विजय कुमार 'विजय'
*25 दिसंबर 1982: : प्रथम पुस्तक "ट्रस्टीशिप-विचार" का विमोचन*
Ravi Prakash
✍️हमसे लिपट गये✍️
'अशांत' शेखर
"फौजियों की अधूरी कहानी"
Lohit Tamta
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
Loading...