Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

तू क्या है मेरी नजर में

घर भर की जान है बेटी।
मां का अरमान है बेटी ।
पापा का लाड दुलार है बेटी।
आंगन की किलकारी है बेटी।
पूजा घर की पावन आरती है बेटी। रसोईघर की सौंधी महक है बेटी।
त्योहारों की चहल-पहल है बेटी।
शादी ब्याहों की धूम है बेटी।
हर उत्सव की रौनक है बेटी।
किचन गार्डन की चिड़िया है बेटी।
बहन की प्यारी सखी है बेटी।
बड़े भैया की जिद्दी लाडो है बेटी।
छोटे भैया की नटखट राजदार है बेटी ।
आस पडोस की लाडली है बेटी।
मेहमानों की खिदमतगार है बेटी।
सारे घर की मीठी सी प्यारी गूंज है बेटी।
मोहल्ले की पहचान है बेटी।
मेरे भारत का मान सम्मान है बेटी ।
किन्तु जिस पल मेरे घर आंगन से
विदा हो कर गयी मेरी बेटी।
ऐसा महसूस हुआ मुझे जैसे
मेरे तन से आत्मा और मेरे घर से
आवाज भी किसी ने समेटी।

– – रंजना माथुर दिनांक 26/11/2016
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

279 Views
You may also like:
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
Green Trees
Buddha Prakash
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
पिता
Shailendra Aseem
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Buddha Prakash
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
Loading...