Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

****तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?****

प्रायः देखा गया है कि परिश्रमी व्यक्तियों को अचानक निराशा घेर लेती है। सामाजिक विद्रुप का सामना भी उस व्यक्ति को करना पड़ता है,ऐसे व्यक्ति को शायद मेरी छोटी सी कविता प्रेरणा दे। साथ ही परिश्रमी व्यक्तियों को इस संदेश के साथ कि वह निराशा का त्याग कर दे और थोड़ा संयम रखें। सब ठीक होगा।
यहाँ तूफान से आशय मेहनती व्यक्ति के सामने आने वाली समस्याओं से हैं।

नवाचारों से प्रेरित होकर कह उठा यह आज मन,
चूक मत, तैयार हो जा, विजित कर ले आज रण,
नव विचारों से कर सुसज्जित,तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?
कर प्रतिज्ञा सत्य अनुसरण से, संसार क्यों न झुक उठेगा?॥1॥

साहस का संचार कर तू, और निराशा का त्याग कर दे,
निराशा की अग्नि को, तन के जल से शान्त कर दे,
वीरता का आयुध पहन तू, तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?
कर प्रतिज्ञा सत्य अनुसरण से, संसार क्यों न झुक उठेगा?॥2॥

ज्ञान की अवधारणा से, मन को इतना प्रबल कर लें,
ज्ञान के लघु दीप प्रज्वलित कर, विषम क्षण को शान्त कर लें,
क्षण बदलने की कर प्रतीक्षा, तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?
कर प्रतिज्ञा सत्य अनुसरण से, संसार क्यों न झुक उठेगा?॥3॥

वीरता एक औषधि है, तू इतना मान मन में,
इस महौषधि का पान करके, कुछ नया करने की ठान मन में,
ठान ले संकल्प से यदि, तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?
कर प्रतिज्ञा सत्य अनुसरण से, संसार क्यों न झुक उठेगा?॥4॥

निर्भीकता के प्रस्तर से, आत्मबल पर सान रख ले,
आत्मबल में पैनापन ला, निराशा का नाश कर दे,
बुद्धि का प्रयोग करके, तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?
कर प्रतिज्ञा सत्य अनुसरण से, संसार क्यों न झुक उठेगा?॥5॥

परिश्रमी व्यक्ति को निम्नांकित पद का अवश्य पालन करना चाहिए, निर्भीकता बहुत आवश्यक है, अतः उसके प्रति सजग रहना चाहिए, इस स्थिति में सफलता उसके क़दम क्यों नहीं चूमेगी?

असत्य का अवसान कर, सत्य का अनुशरण करूंगा,
निराशा को कुचलकर, निडरता का अनुगमन करूंगा,
सफलता की उस महक से, तूफान भी क्यों न रुक उठेगा?
कर प्रतिज्ञा सत्य अनुसरण से, संसार क्यों न झुक उठेगा?॥

**अभिषेक पाराशर**

305 Views
You may also like:
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
Loading...