Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तु है सुनर

तु है सुनर, तेरी बात है सुनर
ऐसे कैसे रे तू, बन गई है सुनर

तु जब भी बोलऽती है
तेरी सूरत चमकती है
तेरी ओंठो की लाली
आंखों की काजरा काली
लगती है ये ऐसी हुनर
तेरी आंखे सुनर, तेरी दिल है सुनर
ऐसे कैसे रे तू, बन गई है सुनर

तुझे जोभी देखता है
दिल से निरेखता है
तु ऐसी है सिक्का
जो चंदा लगे फिका
ऐसे वैसे है तेरी उमर
तेरी हाले सुनर, तेरी चाल है सुनर
ऐसे कैसे रे तू, बन गई है सुनर‌

गीत – जय लगन कुमार हैप्पी ⛳

2 Likes · 369 Views
You may also like:
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
✍️हलाल✍️
'अशांत' शेखर
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इरादा
Shivam Sharma
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
प़थम स्वतंत्रता संग्राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुनाह ए इश्क।
Taj Mohammad
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
कई चेहरे होते है।
Taj Mohammad
जग के पिता
DESH RAJ
जश्ने-आज़ादी की इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
✍️तर्क✍️
'अशांत' शेखर
मोहब्बत।
Taj Mohammad
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
सुनो ना
shabina. Naaz
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
योग छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...