Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2020 · 1 min read

तु है कौन – – ?

सुन रे गगन विशाल,
संग सुनो धरती पाताल,
तू खड़ा देख रहा क्यों मौन,
मेरा जना पुत्र पुछ रहा तू है कौन?

अपना रक्त पिलाया जिसको,
जीवन जोत दिखाया जिसको,
जल बन गया मेरा शोण,
मेरा जना पुत्र पुछ रहा तू है कौन?

प्रकृति से तू सिखा नहीं,
मेरी तपस्या तुझे दिखा नहीं,
ओह! हुआ आज ममता ही गोण,
मेरा जना पुत्र पुछ रहा तू है कौन?

धिक्कार करूँ क्या निज उदर को,
जिससे तुझसा पुत्र जना,
धिक्कार करूँ क्या उस भूर-भूवर को,
क्षण विशेष का साक्ष बना,
तुझसे कहँ क्या? तू कर रहा नारी अस्तित्व गोण,
मेरा जना पुत्र पुछ रहा तू है कौन?

Language: Hindi
Tag: कविता
12 Likes · 2 Comments · 221 Views
You may also like:
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
Rohit Kaushik
“अच्छे दिन आने वाले है” आ गये किसानो के अच्छे दिन
“अच्छे दिन आने वाले है” आ गये किसानो के अच्छे...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
डर लगता है
डर लगता है
Shekhar Chandra Mitra
पंचशील गीत
पंचशील गीत
Buddha Prakash
मेरी अम्मा तेरी मॉम
मेरी अम्मा तेरी मॉम
Satish Srijan
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
💐प्रेम कौतुक-445💐
💐प्रेम कौतुक-445💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अश्कों को छुपा रहे हो।
अश्कों को छुपा रहे हो।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- होश में आयेगा कौन (राना लिधौरी)
ग़ज़ल- होश में आयेगा कौन (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संविधान का शासन भारत मानवता की टोली हो।
संविधान का शासन भारत मानवता की टोली हो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
भारत के वर्तमान हालात
भारत के वर्तमान हालात
कवि दीपक बवेजा
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
आजादी के दीवानों ने
आजादी के दीवानों ने
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" तेल और बाती"
Dr Meenu Poonia
"समझदार से नासमझी की
*Author प्रणय प्रभात*
होली के रंग
होली के रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"प्यासा"मत घबराइए ,
Vijay kumar Pandey
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
श्याम सिंह बिष्ट
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*नमन बच्चों को जो पढ़कर गरीबी में दिखाते हैं (मुक्तक)*
*नमन बच्चों को जो पढ़कर गरीबी में दिखाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
फिर मिलेंगे
फिर मिलेंगे
साहित्य गौरव
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
ये दुनियाँ
ये दुनियाँ
Anamika Singh
दास्तां-ए-दर्द
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
जी लगाकर ही सदा,
जी लगाकर ही सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...