Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 13, 2022 · 1 min read

तुम…

सुनो न,
कैसे कहूँ,
सब कुछ अजीब सा लग रहा हैं,
तुम .. हाँ तुम
न जाने कैसे इतने अपने से बन गए,
सुबह जगने पर तुम ही आते हो खयालों में,
रात को सोना भी तुम्हें ही सोचकर,
अजीब झनझनाट सी होने लगी हैं मन में,
हजारों दफा तो सोच लिया,
के अब के तुम्हें नहीं सोचना हैं,
फिर भी तुम ही हो.. जो जाते ही नहीं कहीं दूर मुझसे,
लिखना तो जैसे मैंने छोड़ ही दिया था,
फिर जहन में बस रहें हो नये अल्फाजों से,
मेरी कल्पना हो,
या तुम्हारी ही कोई दुआ उस रब से,
जो हम करीब ना होकर भी,
आस -पास हैं एक दुसरें के,
अब सिर्फ तुम्हारा एहसास हैं,
एक अदृश्य सा मंद महकता स्पर्श हैं,
जो ले जा रहा हैं मुझे उन दुखों से दूर,
जो कभी बहुत रूँलाते थे,
क्यूँ कि … हँसना जो सीखा रहीं तुम्हारी बेगुनाह आँखे..

ड़र लगता हैं,
खो ना दूँ तुम्हें… इस नकाबी दुनिया में,
लड़खड़ा जाऊँ .. या फिर गिर ही जाऊँ मैं,
उस से पहले तुम,
कस के भर लो मुझे अपनी बाहों में ,
एक दुआ बनकर बस जाओ …
मेरी अाखरी साँस की वो आखरी गूँज बनकर…
#ks

78 Views
You may also like:
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
आ जाओ राम।
Anamika Singh
“ कोरोना ”
DESH RAJ
दुआ
Alok Saxena
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
दुनिया
Rashmi Sanjay
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
राफेल विमान
jaswant Lakhara
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
"अशांत" शेखर
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...