Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो…..

तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो
तुमसे ही खुशियाँ सजती हैं।

प्रणय पुष्पित स्पर्श तुम्हारा
है सिंदुरी माथे की बिंदिया।
अधरों पर लाली सुन प्रियतम,
मुस्कान तुम्हारी से सजती है।
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो
तुमसे ही खुशियाँ सजती हैं।

सुबह सुनहली लिए लालिमा
माँग मेरी तुम नित भरते हो।
रैन कारी कजियारी तुम संग,
मेरी अँखियन में सजती है।
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो
तुमसे ही खुशियाँ सजती हैं।

मीत प्रीत का रंग तुम्हारा
मेरी हथेलियों पर मेहंदी।
सच्चे-झूठे वादों से तुम्हारे
दिव्य मणि नथनी रजती है।
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो
तुमसे ही खुशियाँ सजती हैं।

कानों में मधुरिमा घोलती
बतियाँ तेरी झुमके सी झूमें।
छेड़-छाड़ लिए हँसी-ठिठोली
कंगन-पायल बनकर बजती है।
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो
तुमसे ही खुशियाँ सजती हैं।

जैसे महावर रचे पैर हों ऐसा ही
पग-पग पर पिया साथ तुम्हारा।
#करवा_माँ रखें प्रीत शाश्वत
बिछिया बन माँ से विनती है।
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो
तुमसे ही खुशियाँ सजती हैं।
नीलम शर्मा ✍️

1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Neelam Sharma
View all
You may also like:
Winning
Winning
Dr. Rajiv
*एक शेर*
*एक शेर*
Ravi Prakash
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
नदी
नदी
Kumar Kalhans
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"कुछ रास्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏🏻 अभी मैं बच्चा हूं🙏🏻
🙏🏻 अभी मैं बच्चा हूं🙏🏻
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
ग़ज़ल- होश में आयेगा कौन (राना लिधौरी)
ग़ज़ल- होश में आयेगा कौन (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सद्आत्मा शिवाला
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
★याद न जाए बीते दिनों की★
★याद न जाए बीते दिनों की★
*Author प्रणय प्रभात*
नया चिकित्सक
नया चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐प्रेम कौतुक-221💐
💐प्रेम कौतुक-221💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक फूल की हत्या
एक फूल की हत्या
Minal Aggarwal
दिल ही क्या
दिल ही क्या
Dr fauzia Naseem shad
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
दिनांक:-२३.०२.२३.
दिनांक:-२३.०२.२३.
Pankaj sharma Tarun
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
Loading...