Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

तुम समझते क्यों नही हो-स्वरचित

?तुम समझते क्यों नही हो?

मेरी आँखों की हया
कर देती है मेरी हाँ को बयां,
में कह नही सकती कुछ ,
तुम समझते क्यों नही हो?

मेरा तुम्हे ना पलट के देखना भी इबादत है,
तुझे देखे बिना कुछ और ना देखना आदत है,
जग जाहिर से डरती हु,
तुम समझते क्यों नही हो?

हौसला तुम्ही हो हिम्मत तुम्ही हो, हर मंज़िल भी तुम्ही हो,
चोट तुम्ही हो मरहम भी तुम्ही हो,
मेरी हर साँस में बसा जीवन भी तुम्ही हो,
तुम समझते क्यों नही हो?

तुम्हे ना देखना मानो आँखों का धुंधलापन हो,
तुम्हे देख लेना ही स्वर्ग का अपनापन हो,
हर बात लब्ज़ों में कैसे कह दू, तुम समझते क्यों नही हो?

तेरा यु ज़िद पर अड़ जाना
मेरी बाहों में सिमट जाना,
प्यार के और भी तरीके है,
तुम समझते क्यों नही हो?

तेरा हँसना मेरा सपना तेरा रोना मेरा सब खोना,
तेरी जीत मेरी ख़ुशी तेरा दर्द मेरे जख्म,
फिर भी तुम मेरे ना हो सके ये ज़ीना मौत से बद्तर है,पर
तुम समझते क्यों नही हो?
???????

2 Likes · 1 Comment · 480 Views
You may also like:
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
तीन किताबें
Buddha Prakash
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
इश्क
Anamika Singh
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
Loading...