Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2016 · 1 min read

“तुम शब्द बन कर आ गये”

तुम्हे ही तो लिख रही थी
कि तुम शब्द बन कर आ गये,
शान्त स्निग्ध नयनों से,
अविराम दृष्टि गड़ाये हुए ,
अक्षरों की ओट से निहारते,
मन के पुलिन तट पर ,
असंख्य स्पन्दित कामनायें,
उल्लसित हो प्रदीप्त हो उठी,
तुम्हे ही तो पढ रही थी,
कि तुम अर्थ बन कर आ गये,
मंद मुदित स्मर स्मिति से,
स्वप्निल स्पृहा बिछाये हुए,
पुस्तक की ओट से निहारते,
जीवन के सुमधुर पल पर ,
कम्पित नादमय संगीत जो ,
बनकर सारंगा सी झूम उठी||
…निधि …

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Likes · 2 Comments · 501 Views
You may also like:
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
प्राकृतिक उपचार
Vikas Sharma'Shivaaya'
नया सपना
Kanchan Khanna
बिटिया दिवस
Ram Krishan Rastogi
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
घर फूंकने का साहस
Shekhar Chandra Mitra
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
✍️यादों के पलाश में ..
'अशांत' शेखर
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
मौसम की गर्मी
Seema 'Tu hai na'
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
मुझे लौटा दो वो गुजरा जमाना ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये बारिश के मोती
Kaur Surinder
अक्सर
Rashmi Sanjay
|| संत नरसी (नरसिंह) मेहता || 🌷
Pravesh Shinde
तू क्या सोचता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां के आंचल
Nitu Sah
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आईना किसी को बुरा नहीं बताता है
कवि दीपक बवेजा
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"सेवानिवृत कर्मचारी या व्यक्ति"
Dr Meenu Poonia
पिता
pradeep nagarwal
जिंदगी यूं ही गुजार दूं।
Taj Mohammad
तस्वीरे मुहब्बत
shabina. Naaz
Loading...