Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

तुम याद आ रहे हो।

आज फिर बड़ी शिद्दत से तुम याद आ रहे हो।
दूर होके भी देखो तुम हमको कितना रूला रहे हो।।1।।

दिल बेचैन है हमारा और तुम मुस्कुरा रहे हो।
जानें कैसा रिश्ता इश्क का तुम हमसे निभा रहे हो।।2।।

क्या अहसास है तुम्हें तुम हमको भुला रहे हो।
ये कैसे बताए तुमको कि तुम कितना सता रहे हो।।3।।

मेरी हर इक बरबादी का तुम जश्न मना रहे हो।
सुना है हर शाम तुम घर पर महफिल सजा रहे हो।।4।।

करके बेवफाई तुम हमको वफा सिखा रहे हो।
आशिकी का हर इल्जाम तुम हम पर लगा रहे हो।।5।।

चलो मानते है ये सब सच जो तुम बता रहे हो।
फिर मिलने पर तुम क्यूं हमसे नजरें छूपा रहे हो।।6।।

मेरे दुश्मनों से मिलके तुम हमको जला रहे हो।
तुमको ना मालूम है कि तुम खुद को मिटा रहे हो।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 1 Comment · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैथिलीमे चारिटा हाइकु
मैथिलीमे चारिटा हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नित्य तो केवल आत्मा और ईश्वर है
नित्य तो केवल आत्मा और ईश्वर है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
J_Kay Chhonkar
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हायकू
हायकू
Ajay Chakwate *अजेय*
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
Dr. Narendra Valmiki
"पकौड़ियों की फ़रमाइश" ---(हास्य रचना)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
*Author प्रणय प्रभात*
ठोडे का खेल
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika Srivastava Dhara
नहीं मिलती
नहीं मिलती
Dr fauzia Naseem shad
भाई - बहिन का त्यौहार है भाईदूज
भाई - बहिन का त्यौहार है भाईदूज
gurudeenverma198
दिल का मोल
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
✍️दहशत में है मजारे✍️
✍️दहशत में है मजारे✍️
'अशांत' शेखर
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुकद्दर ने
मुकद्दर ने
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
* शरारा *
* शरारा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
यदि मन में हो संकल्प अडिग
यदि मन में हो संकल्प अडिग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...